Hindi News Portal
राज्य

पश्चिम बंगाल में कोरोना लॉकडाउन 30 जुलाई तक बढ़ा, कुछ और छूट की भी घोषणा

कोलकाता: देश में कोविड-19 महामारी की तीसरी लहर के बारे में विशेषज्ञों द्वारा आशंका जताए जाने के बीच पश्चिम बंगाल सरकार ने जारी लॉकडाउन बुधवार को 30 जुलाई तक के लिए बढ़ा दिया। हालांकि, इस दौरान कुछ छूटों की भी घोषणा की गयी है। एक सरकारी आदेश में कहा गया है कि मेट्रो रेलवे सेवाओं को 50 प्रतिशत बैठने की क्षमता के साथ फिर से शुरू करने की अनुमति दी गयी है, लेकिन यह अनुमति सप्ताहांत के लिए नहीं होगी। लोकल ट्रेन सेवाएं आम लोगों के लिए निलंबित रहेंगी। यह प्रतिबंध 16 मई को लगाए गए थे और आखिरी बार उन्हें 15 जुलाई तक के लिए बढ़ाया गया था।

सरकारी आदेश में कहा गया है कि सार्वजनिक बसों, टैक्सियों, ऑटोरिक्शा को 50 प्रतिशत क्षमता के साथ संचालित करने की अनुमति दी गयी है। इसमें कहा गया है कि सरकारी और निजी दोनों तरह के कार्यालयों को भी आधे कर्मचारियों के साथ काम करने की अनुमति दी गयी है। जिम और ब्यूटी पार्लर भी सुबह 11 बजे से शाम छह बजे तक 50 प्रतिशत क्षमता के साथ काम कर सकते हैं। शादी-विवाह जैसे सामाजिक समारोहों में सिर्फ 50 लोगों को ही शामिल होने की अनुमति होगी। वहीं सब्जी बाजार सुबह छह बजे से दोपहर एक बजे तक खुले रह सकेंगे।

 


सौजन्य : इंडिया टीवी

 

 

15 July, 2021

खुशखबरी-भारत में अब आप कार से उड़ सकेंगे आसमान में...सरकार ने जारी की तस्वीरें
भारत की पहली फ्लाइंग कार का कॉन्सेप्ट मॉडल तैयार कर लिया गया है
गुजरातः बाढ़ प्रभावित क्षैत्र का दौरा करने पहुचे विधायक,लोगो ने बनाया बंधक
गांधीनगर में नए मुख्यमंत्री का शपथ लेने के बाद उसके बाद जन प्रतिनिधी बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करने निकले .
श्रीकृष्ण जन्मभूमि मामले में नए सिरे से शुरू हुई सुनवाई, दोनों पक्षों ने रखी अपनी बात
प्रथम परिवादी उत्तर प्रदेश सुन्नी सेण्ट्रल वक्फ़ बोर्ड के चेयरमैन की ओर से इस बार उनका पैरवीकर्ता गैरहाजिर रहा।
चरणजीत सिंह चन्नीक ने पंजाब के मुख्यमंत्री पद की शपथ के बाद , राष्ट्रीय महिला आयोग ने इस्तीफे की माँग शुरू
चन्नी के खिलाफ कुछ साल पहले लगे ‘मी टू संबंधी आरोपों’ को लेकर उनका इस्तीफा मांगा है
पंजाब के नए मुख्यमंत्री के रुप मै चरनजीत सिंह चन्नी को विधायक दल ने चुने गए
सीएम पद की रेस में सबसे आगे पूर्व पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ पंजाब कांग्रेस के चीफ नवजोत सिंह सिद्धू और कैप्टन अमरिंदर सिंह का विरोध करने वाले सुखजिंदर सिंह रंधावा का नाम सबसे आगे था ।